DRDO ने पोखरण में नाग मिसाइल के तीन परीक्षण किये

July 9, 2019

रक्षा अनुसन्धान व विकास संगठन ने हाल ही में पोखरण में नाग मिसाइल के तीन सफल परीक्षण किये गये, यह परीक्षण दिन तथा रात दोनों समय में किये गये, इस दौरान मिसाइल की टेस्ट फायरिंग की गयी। इन सफल परीक्षणों के साथ ही नाग एंटी टैंक मिसाइल सेना में शामिल होने के अंतिम चरण में पहुँच गयी है।

2018 में रक्षा अधिग्रहण परिषद् (DAC) ने 524 करोड़ रुपये की लागत से नाग मिसाइल सिस्टम (NAMIS) की खरीद को मंज़ूरी दी थी। NAMIS को DRDO द्वारा डिजाईन तथा विकसित किया गया है। इसमें तीसरी पीढ़ी की एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल नाग तथा मिसाइल कैरिएर व्हीकल (NAMICA) शामिल है।

नाग मिसाइल

यह तीसरी पीढ़ी की एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल है, यह दिन तथा रात दोनों परिस्थितियों में दुश्मन टैंकों को नष्ट करने की क्षमता रखती है। इस मिसाइल की रेंज 3 से 7 किलोमीटर है। इसका विकास रक्षा व अनुसन्धान संगठन द्वारा किया गया है।

ब्रह्मोस मिसाइल की रेंज को बढ़ाकर 500 किलोमीटर किया गया

July 8, 2019

ब्रह्मोस एयरोस्पेस के सीईओ सुधीर कुमार मिश्रा ने एक साक्षात्कार में कहा है कि ब्रह्मोस मिसाइल की रेंज को बढ़ाकर 500 किलोमीटर किया गया है। पहले इसकी रेंज लगभग 290 किलोमीटर थी। रेंज में बढ़ोत्तरी होने के कारण अब ब्रह्मोस मिसाइल और भी प्रभावशाली सिद्ध होगी।

ब्रह्मोस मिसाइल

ब्रह्मोस मिसाइल का नाम दो नदियों के नामों को जोड़कर बनाया गया है, यह नाम भारतीय नदी “ब्रह्मपुत्र” तथा रूस की “मोस्कवा” नदी के नाम को मिलाकर बनाया गया है।

ब्रह्मोस एक माध्यम रेंज की सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल है, इसे पनडुब्बी, समुद्री जहाज़, लड़ाकू विमान व ज़मीन से दागा जा सकता है। ब्रह्मोस रूस की NPO और भारत के DRDO के बीच एक संयुक्त उपक्रम है। ब्रह्मोस मिसाइल 3 मैक (ध्वनि से तीन गुना तेज़) की गति से अपने लक्ष्य को भेदने की क्षमता रखती है। वर्तमान में इसकी गति को 5 मैक तक करने पर कार्य किया जा रहा है। यह मिसाइल रूसी मिसाइल पी-800 ओनिक्स पर आधारित है। इस मिसाइल का नाम भारत की नदी ब्रह्मपुत्र और रूस की नदी मोस्कवा के नाम को मिलाकर ‘ब्रह्मोस’ रखा गया है। वर्तमान में ब्रह्मोस मिसाइल के हाइपरसोनिक संस्करण को विकसित किया जा रहा है, यह हाइपरसोनिक संस्करण 7-8 मैक की गति से लक्ष्य भेदने में सक्षम होगी। फिलहाल यह हाइपरसोनिक संस्करण लगभग 2020 में परीक्षण के लिए तैयार होगा।